Headlines News :
Hindi Tips . Powered by Blogger.
Banner Advertisement
Showing posts with label Lal Kitab. Show all posts
Showing posts with label Lal Kitab. Show all posts

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में : प्रथम-पेज़-3

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में : प्रथम-पेज़-3

9. इसमें शक नहीं कि लड़कपन की तबियत वाले निंदक (बदखोई करने वाला) और कुएं के मेंढक (अपने दायरे में महदूद) जैसे दिमागी मालिक और मखौल उड़ाने वाले भोले बादशाह (बेवकूफ) से फराहत आ ही जाया करती है मगर दुनियावी राशियों को क्षमतानुसार (हस्बे हैसियत) इस इल्म के फायदा पहुँचाना इन्सानी शराफत होगी | क्योंकि

कर भला होगा भला
आखिर भले का भला
नए और पुराने मज़मून का फर्क
यह किताब

जन्म वक्त्त दिन माह उम्र साल सब कुछ,
हस्म नाम को भी मिटा देती है ||
फक्त्त रेखा फोटो मकानों से कुंडली,
जन्म भय चन्द्र बना देती है ||
लिखित जब विधाता किसी की हो शक्की,
उपाय मामूली बता देती है ||
ग्रह फल व राशि के टुकड़े दो करता,
या रेखा में मेख लगा देती है ||

1. इस विद्या की नीवं सामुद्रिक विद्या पर है जिससे मौजूदा ज्योतिष के मुताबिक बनी कुंडली के लग्न की दुरुस्ती करने में मदद मिलती है | जब प्राचीन विचारों पर शनिच्चर की अढाई साला मंदी चाल के तीन बड़े चक्रों (2 ½, 5, 7 ½ साल) की साढ़सती की फ़िक्र माननी पड़े, तो इस लाल किताबी मज़मून की बुनियाद पर शनिच्चर की मंदी घटनाएं मसलन साँप डसने की घटनाएं (वारदातें), मकान गिर जाने या बिक जाने, आँख की नज़र (बिनाई)

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में : प्रथम-पेज़-2

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में : प्रथम-पेज़-2

हाँ इतना जरूर है यह मजमून बाज़ औकात अपनी बरकत से किसी प्राणी पर हमला करने बाले ज़ालिम शेर के साहमने के ऐसी गैबी दीवार खड़ी कर देगा जिससे कि वो शेर उसका कुछ ना बिगाड़ सके |फिर भी शेर और ऊँची छलांग से हमला करे तो ये मज़मून गैबी दीवार को और भी ऊँची करता जाता है मगर हमला करने वाले शेर पर न गोली चलाएगा और न ही उसकी टांग पकड़ेगा मगर रूहानी मदद से वो शेर थक हार कर खुद ब खुद ही चला जाये या हमले का इरादा ही छोड़ देगा |जिससे दोनों अलहदा-अलहदा हो जाने पर वो प्राणी सुख का सांस लेने लगेगा |

२. मज़मून की बुनियाद पर "लाल किताब" की जिल्द सुर्ख खूनी लाल रंग की जो चमकीला न हो मुबारिक होगी | इस रंग के इलावा बाकि सब रंग मनहूस असर के होंगे | 3. इस किताब में सामुद्रिक विद्या की क ख (वर्णमाला) मुकम्मल तौर पर देने की कोशिश की गई है मगर चूँकि एक फरमान दूसरे से बिलकुल जुदा ही होता चला गया है इसलिए तमाम की तमाम किताब शुरू से आखिर तक कई दफा बार-बार बतौर नवल बेशक बगैर समझे ही पढते जाना स्वयं ही मज़मून का भेद बना देगा |
4. किसी बात को आजमाने से पहले उसे अपनी जाती फैसला से गलत समझ कर वहां खड़ा कर लेना मज़मून की वाकिफियत के लिए मददगार ना होगा |
5. किताब के बगैर फर्जी मन मानी या मनघडंत बात वहां पैदा कर देगी और वहां का इलाज शायद ही कहीं मिलता होगा |
6. कुंडली का बनाना और उसकी दुरुस्ती को जांचना तमाम सम्बंधित विद्या के परिचय के बाद शुरू करें और दरम्यानी वक्त में मौजूदा ज्योतिष की बनाई हुई कुंडली से ही तजुर्बा हासिल करें मगर ख्याल रहे कि अपने ही हाथ का खाना या अपनी ही जन्म कुंडली, मजमून सीखने के रास्ते में सबसे बड़ी रूकावट होगी |
7. मज़मून की गलती बताने वाला इस इल्म को बढ़ाने के लिए सबसे मददगार दोस्त होगा क्योंकि असल दोस्त वो है जो नुक्स बतलाएं |
8. बात की असलियत को पाने के लिए किसी दूसरे इल्म या आलिम की बदखोई से परहेज़ करें |

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में विषय सूची पेज

असली "लाल किताब के फरमान 1952" हिंदी में विषय सूची पेज

लाल किताब : विषय सूची

फरमान न:विषय
  प्रथम   View
   ध्यान रखे साख तौर पर
   पुराने ज्योतिष और लाल किताब में अंतर    View
   लाल किताब के आगाज    View
1.   कुदरत से किस्मत किस तरह आई    View
2.   उसकी कुदरत का हुक्मनामा कहॉं पाया गया    View
3.   उंचे फलक का अक्स किधर है    View
4.   आलिम को इल्म में शक क्या है    View
   व्याकरण    View
5.   तकदीर पहले या तदबीर    View
   (राशि)    View
6.   किस्मत की गांठों से ग्रह मंडल बनेगा (ग्रह)    View
   ग्रहों की मित्रता शत्रुता    View
   जिस्म व ग्रहों का सबंध    View
   ग्रहों की मियाद    View
   दरमियाने ग्रह    View
   ग्रह की उम्र का असर    View
   रियायती ४० दिन ताकत का पैमाना ग्रह की अवस्था    View
   ३५ साला चक्कर    View
   जन्म दिन एवम जन्म वक्त के ग्रह    View
   ग्रहों की किस्में: पापी ग्रह, धर्मी ग्रह, अंधे ग्रह, रतांध ग्र    View
   साथी ग्रह, बिन मुकाबिल के ग्रह, ग्रहों की कुरबानी के बकरे    View
   कायम ग्रह, ग्रह का घर, घर का ग्रह, मित्र एवम शत्रु ग्रह, उंच नीच बराबर के ग्रह, बालिग और नाबालिग ग्रह    View
7.   बुत से रूह ने अपना घर क्यूँ पूछ लिया    View
   ग्रह राशि का आपसी सबंध    View
   राह बुर्ज या राशिओं की गलतफहमी    View
8.   12 पक्के घर    View
   कुंडली का पक्का घर खाना नर: १    View
   खाना न: 2    View
   खाना न: 3    View
   खाना न: 4 और 5    View
   खाना न: 6    View
   खाना न: 7    View
   खाना न: 8    View
   खाना न: 9 और 10    View
   खाना न: 11    View
   खाना न: 12    View
   सोये हुए पक्के घर या पक्के घर में बैठे सोये ग्रह (सोया घर या सोया ग्रह)    View
   ग्रह दृष्टि (आम हालत)    View
   ग्रहों की बाहम दृष्टि का राशिओं से सबंध    View
   कुंडली के खानों का सबंध    View
   100% और अपने से सातवें देखने का फर्क    View
   ग्रहों का असर ग्रह में: ग्रह का असर ग्रह के घर में और उनका फर्क    View
   खास-खास चीजों के लिए दृष्टि (सेहत बीमारी संतान आदि)    View
   रहों की बाहय दृष्टि के वक्त उनके मुश्तरका असर की मिकदार    View
   स्थानों की दृष्टि :    View
   बाहम मदद,आम हालत, टकराव व बुनिआद, धोखा मुश्तरका दीवार, अचानक चौट    View
   पहले व बाद के घरों के ग्रह    View
   उलझन के ग्रह    View
   ऋण पित्तर के ग्रह    View
   उनका देखना और उपाय    View
   महादशा का ग्रह    View
   लाल किताब की चन्द्र कुंडली    View
   धोखे का ग्रह    View
9.   सहायता के लिए उपाय    View
10.   ग्रह का असर (खास बातें)    View
   साथी ग्रहों का असर देखने का ढंग    View
   खास खास असर    View
11.   ब्रह्ममांड में ग्रह चाली बच्चे की अवस्था    View
12.   कुंडली की बनावट व दुरुस्ती    View
   हस्त रेखा से कुंडली बनाने का ढंग    View
   बंद मुठ्ठी का कुंडली का आपसी सबंध    View
   फलादेश देखने का ढंग    View
   ग्रह कुंडली की मकान कुंडली से दुरुस्ती    View
   सारे परिवार की इकठ्ठी कुंडली    View
13.   वर्षफल    View
14.   टेवे की किस्में    View
15.   फलादेश देखने का ढंग    View

वर्तमान समय में लाल किताब की उपयोगिता

वर्तमान समय में लाल किताब की उपयोगिता (Relevance of Lal Kitab in present time)

Panit Roop Chand Joshi Jiअठारहवीं सदी में वर्तमान पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में प. गिरधारी लाल जी शर्मा अंग्रेजी हुकूमत में सरकारी पद पर आसीन थे | ज्योतिषशाश्त्र एवं कर्मकांड के बारे में अच्छा-खासा ज्ञान था | उन्हीं के सरकारी पद पर काम करने के समय में लाहौर में जमीन खुदाई (पाटने) सम्बन्धित कार्य चल रहा था, खुदाई के दौरान उस जमीन में से पीतल की पाटिकाए प्राप्त हुई जिन पर उर्दू एंव फारसी भाषा में कुछ लिखा (आज के लाल किताब सबंधी ) हुआ था | उन पाटिकाओ को प.गिरधारी लाल शर्मा जी के पास लाया जो कि ज्योतिष एंव कर्मकाण्ड (Jyotish And Karma Kand) के अच्छे ज्ञाता होने के कारण तथा उनकी उर्दू , फारसी एंव संस्कृत पर भी अच्छी पकड होने के कारण ही इन पट्टिकाओं को अध्ययन के लिए लाया गया | कई वर्षो तक प. गिरधारी लाल जी ने इन पटिकाओं पर परिश्रमपूर्वक अध्यन (शोध) किया, इस अध्यन कार्य में उनके ही कार्यालय में उनके साथी रूपचंद जोशी जी का भी काफी सहयोग मिला | पं. गिरधारी लाल जी शर्मा व उनके सहयोगी द्वारा अपने अथक परिश्रम से इन पट्टिकाओं पर उकरित अरबी व फारसी भाषा का हिंदी में अनुवाद किया | 1936 में पता नहीं क्या हुआ (इसकी जानकारी किसी भी ग्रन्थ या अखबार या कहीं और तरीके से ) यह किताब सन 1936 में प. रुप चन्द्र शर्मा जी के नाम से "लाल किताब" के नाम से अरबी भाषा मे लाहौर में प्रकाशित हो गई | यह "लाल किताब" प्रकाशित होते ही काफी प्रसिद्ध हो गई |

इस किताब के इतनी जल्दी प्रसिद्ध होने का एक कारण यह भी है कि ग्रहो के उपायो के रूप में वो सरल टोटके जिन्हे आम व्यक्ति बिना किसी योग्य विद्वान, योग्य पंडित, ज्योतिषाचार्य (दूसरे की सहायता के) के स्वंय ही ये उपाय कर सकता था ।

हाँलाकि इस किताब के बारे में समाज में तरह-2 की भ्रान्तियाँ प्रचलित (Superstition About Lal Kitab) है, कुछ लोगो का कहना है कि "भृगु संहिता", "अर्जुन संहिता", "ध्रुवनाड़ी" ग्रंथों की तरह इस किताब का इतिहास है | कुछ लोगो का ये भी कहना है कि पहले आकाशवाणी हुई फिर इस ग्रन्थ की रचना हुई तथा कुछ अन्य का कहना है कि इस किताब की मौलिक रचना अरब के विद्वानो द्वारा की गई।

आज तक "लाल किताब" को आधार मान कर काफी पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं |
1. लाल किताब के फरमान -- सन 1939 में प्रकाशित
2. लाल किताब के अरमान -- सन 1940 में प्रकाशित
3. लाल किताब (गुटका) -- सन 1941 में प्रकाशित
4. लाल किताब -- सन 1942 में प्रकाशित
5 लाल किताब -- सन 1952 में प्रकाशित (पृष्ठ संख्या 1172, इसी संस्करण को अंतिम संस्करण के रूप में )
नोट: इन उपरोक्त किताबों की मूल भाषा उर्दू है जो उस समय की आम प्रचलित भाषा थी। और निम्न किताबें उपरोक्त किताबों का हिंदी व अंग्रेजी रूपांतर है |
6. पं. किसनलाल शर्मा द्वारा लिखित व मनोज पाकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित लाल किताब
7. पं. राधाकृष्ण श्रीमाली द्वारा लिखित व डायमंड पाकेट बुक्स (प्रा) लि. द्वारा प्रकाशित लाल किताब
8. प्रो. यु.सी. महाजन द्वारा लिखित व पुस्तक महल दिल्ली द्वारा प्रकाशित लाल किताब (अंग्रेजी)

सैद्धान्तिक रूप से यदि हम लाल किताब का विवेचन करे़ तो पाएगें कि इसका वैदिक ज्योतिष (Vedic Jyotish) से बहुत अन्तर है। भारतीय(वैदिक) ज्योतिष (Indian Vedic Astrology) में लग्न की महत्ता (Importance On Ascendant) है । जबकि लाल किताब में लग्न का कोई महत्व नही (No Importance of Lagna In Lal Kitab), लाल किताब में मेष राशि को ही लग्न मान लिया जाता (Aries Is Treated as Lagna In Lal Kitab) है।

लाल किताब का गणित भी अपनी अलग किस्म का ही (Mathematical Calculation of Lal Kitab Is Different) है । जहां वैदिक ज्योतिष में एक और हम वर्ग कुण्डली (Varga Kundli) (नवांश, दशंमाश) (Nabamansh) Dashamansh) के आधार पर फलादेश (prediction) करने का नियम है वहीं लाल किताब में अन्धी कुण्डली (Andhi Kundli), नाबालिग ग्रहो की कुण्डली (Nabalig Kundali) बनाकर भविष्य फल बताया जाता है। लाल किताब में एक भाव (Bhav) की दूसरे भाव पर दृष्टि से सम्बन्धित नियम भी अनोखा है।

इन सब चीजो का विश्लेषण करने से एक बात जो प्रमुख रूप से उभर कर सामने आती है कि यदि लाल किताब के गणित एंव फलित (Phalit) पक्ष को नजर अन्दाज कर दिया जाऎ तथा ग्रह दोष (Grah Dosh) दूर करने के लिए जो सरल टोटके इसमें बताए गए है , यदि उन्हे किया जाऎ तो व्यक्ति लाल किताब से काफी हद तक लाभ उठा सकता है।


असली लाल किताब 1952 अब हिंदी में आपके लिए

असली लाल किताब 1952 अब हिंदी में आपके लिए

आज से इस ब्लॉग पर असली लाल किताब को टेक्स्ट वर्जन में उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जा रहा है | यही हिंदी वर्जन की फोटोकापी ही आज के दौर में कुछ लोगों द्वारा अपने स्वार्थ के लिए 2100/- रूपये में उपलब्ध करवाई जा रही है | मेरा ये प्रयास आपके लिए इसे मुफ्त में सर्वसाधारण के लिए सुलभ करवाने का है | इसके साथ ही एक और गुजारिश है कि जिस भी व्यक्ति की लाल किताब के बारे में श्रद्धा है वो इसका लिंक अन्य के साथ भी शेयर करें ताकि वो दूसरे व्यक्ति जो इनके लिंक ढूंढते हैं उनको भी ये दुर्लभ ग्रन्थ पढने के लिए सुलभ हो सके |
Lal Kitab

"लाल किताब" के "उपाय" कब और कैसे करें ?

"लाल किताब" के "उपाय" कब और कैसे करें ?
लाल किताब के उपाय कब और कैसे करें
लाल किताब में उपाय करने के अपने नियम हैं | इसलिए लाल किताब में उपाय कब और कैसें करें ये निम्न प्रकार से बतलाया गया है | किसी भी उपाय को करने के लिए मन में श्रद्धा का होना जरूरी है | पूरे मन से किया गया उपाय पूर्ण फल देता है व अधूरे मन से किया गया उपाय निष्फल रहता है | इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि आप कोई भी उपाय करें उसे निष्ठापूर्वक पूरे मन से श्रद्धापूर्वक करें | पूरे मन से व श्रद्धा से आप द्वारा किया गया उपाय आपके लिए कल्याणकारी सिद्ध होगा |

1. उपाय सूर्य निकलने के बाद सूर्य छिपने तक दिन के समय करें, रात के समय उपाय करना कई बार अशुभ फल दे सकता है। केवल चन्द्र ग्रहण का उपाय रात को किया जा सकता है ।
2. उपाय शुरू करने के लिए किसी खास दिन सोमवार या मंगलवार आदि, सक्रांति, अमावस्या या पूर्णिमा आदि का कोई विचार नहीं होगा।
3. आप का कोई खून का संबंधी रिश्तेदार जैसे भाई-बहन, माता-पिता, दादा-दादी, पुत्र-पुत्री आदि में से उपाय कर सकता है जो फलदाई होगा।
4. एक दिन में केवल एक ही उपाय करें, एक दिन में दो उपाय करने से शुभ फल नहीं मिलता या किया हुआ उपाय निष्फल हो सकता है।
5. जो परहेज बताए जाये जैसे मांस-मछली न खावें, मदिरा का सेवन न करें, चाल-चलन ठीक रखें, झूठ न बोलें, जूठन न खावें न खिलावें, नियत में खोट न रखें, परस्त्री-परपुरुष से संबंध न करें, आदि का विशेष ध्यान रखें।
6. जो उपाय जिस समय के लिये लिखा है उसी समय तक करें, आगे यह उपाय बंद कर देवें।
7. यदि किसी कारण उपाय बीच में बंद करना पड़ जाय तो जिस दिन उपाय बन्द करना है उससे एक दिन पहले थोड़े से चावल दूध से धोकर सफेद कपड़े में बांध कर पास रख लें और जब दुवारा उपाय शुरू करना हो वह चावल धर्म स्थान में या चलते पानी में या किसी बाग-बगीचे आदि में गिरा कर उपाय फिर शुरू कर दें। ऐसा करने से उपाय अधूरा नहीं माना जाएगा और पूरा फल मिलेगा।
8. हर उपाय 43 दिन या 43 सप्ताह या 43 मास या 43 वर्ष तक करना होता है, उपाय चलते समय बीच में टूट जाए चाहे 39वां दिन क्यों न हो सब निष्फल हो सकता है या शुभ फल में कमी रह सकती है।
9. जन्म कुण्डली में अशुभ ग्रहों का वर्षफल कुण्डली में उपाय अपने जन्मदिन से लेकर 40-43 दिन के भीतर ही करें ।
10. घर में कोई सूतक (बच्चा जन्म हो) या पातक (कोई मर जाय) हो जाय तो 40 दिन उपाय नहीं करने चाहिये ।
11. बुजुर्गों के रीति -रिवाजों को न तोडें और संस्कार पूरें करें ।

red astro professional 8.0

Red AstroRed Astro Professional 8.0

आज की पोस्ट है Red Astro Professional 8.0 एस्ट्रोलोजी पर आधारित सोफ्टवेयर के बारे में | जैसे कि इस पोस्ट के टाइटल से जाहिर है | ये पोस्ट उन के लिए है जो एस्ट्रोलोजी पर विश्वास करते हैं | सच में ये सोफ्टवेयर बहुत बढ़िया है | ये लाल किताब पर आधारित जन्म कुंडली कर निर्माण करता है | लाल किताब के चाहने वालों के लिए अति उत्तम सोफ्टवेयर है | ये सोफ्टवेयर अभी तक लाल किताब पर आधारित विकसित सोफ्टवेयर में से ज्यादा प्रभावशाली है | इस सोफ्टवेयर को Mindsutra Software Technologies द्वारा विकसित किया गया है |

Red Astro Red Astro Professional 8.0 के बारे में अधिकारिक जानकारी आप इस की अधिकारित साईट mindsutra.com से प्राप्त कर सकते हैं | इसकी कुछ खास फीचर्स निम्नलिखित हैं |

* ये सोफ्वेयर WindowXP, Vista, व Window 7 को सपोर्ट करता है |
* इस सोफ्टवेयर की सहायता से आप अंग्रेजी व हिंदी भाषा में कुंडली का निर्माण कर सकते हैं |
* इस में सात तरह की वर्क स्क्रीन हैं
* अलग अलग तरह के ५०० पेजों का प्रिंट लिया जा सकता है | ये एक विस्तारित रिपोर्ट है |
* इसकी अधिकतम कीमत 12500/- रूपये है |
* हिंदी वर्क स्क्रीन कैसे दिखाई देती है आप इस लिंक पर कलिक करके डाउनलोड करने के बाद PDF के रूप में देख सकते हैं

या इस लिंक से Download कर सकते हैं |

List of Contents

  • Work Screen - Lal Kitab Kundali and Lal Kitab Moon Kundali in Detail
  • Work Screen - Lal Kitab Kundali in Detail
  • Work Screen - Lal Kitab Moon Kundali in Detail
  • Work Screen - Vedic Astrology in Detail
  • Work Screen - Lal Kitab Marriage Matching
  • Work Screen - Marriage Matching
  • Work Screen - Adyakshar Based Marriage Matching
  • Astrological Particulars
  • Planetary Details and Kundali
  • Lal Kitab 35 year's cycle
  • Lal Kitab Aspects (All Aspects)
  • Lal Kitab Aspects (Moon Kundali)
  • Palm Design from Lal Kitab
  • Varsha-Phala Details & Kundali
  • Varsha-Phala with Month Kundali
  • All Aspects in Varshaphala Chart
  • Varsha-Phala from Lal-Kitab Moon Kundali
  • Varsha-Phala with Month Kundalis (Moon Kundali)
  • All Aspects in Varshaphala From Lal-Kitab Moon Kundali
  • Varshaphala Model Prints
  • General Predictions and Remedies from Lal Kitab
  • Bhav Phala and Upay in LalKitab
  • Bhav Phala and Upay- New System
  • Life Analysis through Lal Kitab
  • Other Important Predictions from Lal-Kitab
  • Conjoined Planets results From Lal Kitab
  • Recommendation for suitable Gemstone (Ratna)
  • Janma Rashi (Moon Sign) based Rudraksha recommendation
  • Shani Sadhesati Prediction & Upaya - Lal Kitab
  • Vimshottari dasha prediction and remedies - Lal Kitab
  • Numerological report for Gems, Rudraksha, Mantra, Yantra and Remedies
  • Manglik Blemish (Kuja Dosha) - Applicability, Effect & Remedies
  • Kaal-Sarpa Yoga - Applicability, Effect & Remedies
  • General Predictions and Remedies From VarshaPhala
  • General Predictions and Remedies From VarshaPhala- New System
  • Planetary Positions & Kundali
  • Bhava Sphutas & Kundalis
  • Graha Maitri Chakra
  • Shodasha Varga Charts
  • ShadBala & Bhava Bala
  • Ashtaka Varga Charts
  • Observations from Sarvashtakavarga
  • Krishnamurti Paddhati- Planetary Positions & Chart
  • Sudarshan Chakra
  • Aspect Charts (4 Types)
  • Planetary Avasthas & Tara Chakras
  • Vimshottari Dasha - Traditional Method
  • Planetary Positions (Gochar)
  • Transit Saturn (Sadhe-Sati)
  • General and Mental Characteristics
  • Predictions from Planetary Combinations (Yoga)
  • Prediction from Transit of Planets
  • Shani Sadhesati (Transit Saturn) Prediction
  • Vimshottari Dasha Prediction
  • Select/feed chart for matching
  • Planetary Positions & Kundali (Vara-Vadhu)
  • Ashta-koota agreement & Gun-milan score (max. 36 points)
  • Dwadasha-koota agreement & Gun-milan score (max. 50 points)
  • Dosha-Samyam ( or Balancing of Malefic Influences)
  • Ashta-Koota Milan from all Planets
  • Kuja-Dosha (Manglik Blemish) & its cancellation
  • Checking for presence of other obstructive factors
  • Compatibility results between two charts
  • Sympathy and antipathy between two charts
  • A4/Diary/Pocket size printing
  • Almost 500 pages of printouts
  • Astrologer's Note
  • Birth Day Reminder
  • Baby Name Selcetion
  • Planets Information
  • Astrological Profile
  • Lal Kitab-Planets Info Viewer
  • Lal Kitab-Aspect Viewer
  • Unknown Kundali Maker
  • Shubh/Ashubh Planet Setiing
  • Planetary Combination Search in Varshaphala
  • Customized Prediction and Upay
  • Customized Prediction Viewer

क्या आपको ये लेख पसंद आया ? यदि हां !!! तो टिप्पणी अवश्य दें ताकि निरंतर लिखने की चाह बनी रहे |

astro sign

astroSign
यदि आपको ये लेख पसंद आये तो कृपया टिप्पणी जरूर करें | (किसी भी मुश्किल दरवेश होने पर आप मुझसे संपर्क करें)

how to get red astro pro V 6.0

रेड एस्ट्रो प्रोफैशनल वर्ज़न 6.0

आजकल हर व्यक्ति लाल किताब के बारे में जानना चाहता है | क्या है ये लाल किताब ? लाल किताब के आसान से उपाय | सभी जानना चाहते है ये उपाय किस प्रकार करें | लाल किताब के अनुसार जन्म कुंडली कैसे बनाएँ | इन्ही सब के हल के लिए आप रेड एस्ट्रो प्रोफैशनल वर्ज़न 6.0 का प्रयोग कर सकते हैं |

Red Astro V 6.0 Pro
लाल किताब के अनुसार कुंडली बनाने का सोफ्टवेयर
डाउनलोड लिंक
फ्राम मीडिया फायर
रेड एस्ट्रो को अपने कम्पूटर में कैसे स्थापित करें ? सबसे पहले ऊपर दिए गए लिंक से इस सोफ्टवेयर को डाउनलोड कर लें | डाउनलोड होने के बाद आपकी फ़ाइल दाईं तरफ दिखाई दे रही तस्वीर के अनुसार दिखाई देगा |

अब इसे अनजिप कर लें | ये सोफ्टवेयर विनरार में ज़िप किया गया है | विनरार को डाउनलोड करने के लिए यहाँ पर कलिक करें |

जब आप इस फोल्डर को अनजिप करेंगे तो आपको निम्न तस्वीर अनुसार एक पीले रंग का फोल्डर एक आइकान के रूप एक फ़ाइल दिखाई देगी :-
अब आप पीले रंग के फोल्डर पर दो बार कलिक करें | जब आप इस फोल्डर पर दो बार कलिक करेंगे तो निम्न से पहिली तस्वीर के अनुसार इस फोल्डर में तेरह फ़ाइल दिखाई देंगी | आप इन फाइल्स में सेटअप नाम की फ़ाइल (इस फ़ाइल पर कलिक करने से पहले अपने एंटीवायरस को डिसेबल कर लें ) पर दो बार कलिक करें | जब आप इस फ़ाइल पर दो बार कलिक करें तो निम्न से दूसरी तस्वीर के अनुसार सेटअप शुरू हो जाएगा | इसके निम्न से तीसरी तस्वीर के अनुसार एक मेसेज स्क्रीन उभरेगी आप उस पर बने नेक्स्ट बटन पर कलिक करें | उसके बाद निम्न से चौथी तस्वीर अनुसार वेलकम स्क्रीन उभरेगी आप यहाँ भी नेक्स्ट बटन पर कलिक करें |

इस के बाद निम्न से पांचवीं तस्वीर के अनुसार यूज़र इन्फार्मेशन नामक स्क्रीन उभरेगी आप यहाँ पर अपना नाम व अपनी का कम्पनी नाम भरें व नेक्स्ट बटन पर कलिक करें | अब निम्न से छटी तस्वीर अनुसार नई स्क्रीन उभरेगी जिस में आप से पूछा जाएगा कि आप इस साफ्टवेयर को कहाँ पर इंस्टाल करना चाहते हैं | यदि आप इस साफ्वेयर को कहीं और इंस्टाल करना चाहते हैं तो ब्राउज़ बटन पर कलिक करें अन्यथा इसे डिफाल्ट रूप में इंस्टाल करेने के लिए नेक्स्ट बटन पर कलिक करें | नेक्स्ट बटन पर कलिक करने के बाद निम्न से सातवीं तस्वीर के अनुसार सेलेक्ट प्रोग्राम फोल्डर नामक तस्वीर उभरेगी, आप यहाँ भी नेक्स्ट बटन पर कलिक करें | जब आप नेक्स्ट बटन पर कलिक करेंगे निम्न से आठवीं तस्वीर के अनुसार स्टार्ट कापिंग फाइल्स नामक स्क्रीन उभरेगी, आप यहाँ भी नेक्स्ट बटन पर कलिक करें | अब निम्न से नवम तस्वीर अनुसार आपका सोफ्टवेयर इंस्टाल होना शुरू हो जाएगा | सोफ्टवेयर इंस्टाल होने के निम्न से दसवीं तस्वीर के अनुसार सेटअप कम्प्लीट नामक स्क्रीन उभरेगी | आप यहाँ "yes, Launch the program file" को अनचेक कर दें व फिनिश बटन पर कलिक कर दें | रेड एस्ट्रो प्रो वर्ज़न 6.0 आपके कम्पूटर में स्थापित हो गया है |

अब आप को इस डेमो वर्ज़न को पूर्ण वर्ज़न बनाना है | इसके लिए आप अनजिप किये फोल्डर में आइकन जैसे दिखाई दे रही फ़ाइल पर दो बार कलिक करना है (आप इसे निम्न से ग्यारवी तस्वीर में देख सकते हैं) जब आप इस आइकान पर दो बार कलिक करेंगे निम्न से बाहरवी तस्वीर के एक स्क्रीन उभरेगी, आप इस स्क्रीन पर "PATCH" बटन पर कलिक करें | जब आप इस बटन पर कलिक करेंगे तो एक मेसेज स्क्रीन उभरेगी (निम्न से तेहरवीं तस्वीर) जिस पर "Cannot find the file, search the file" लिखा होगा | आप यहाँ येस बटन पर कलिक करें व जब ओपन डाइलाग बाक्स दिखाई देगा आप यहाँ डिफाल्ट रूप में प्रोग्राम फ़ाइल में "Mindsutra" नामक फोल्डर पर दो बार कलिक करें | इस फोल्डर के खुलने पर आप "Red Astro 6 Demo" नामक फोल्डर पर दो बार कलिक करें व इस फोल्डर में "Red Astro 6 Demo" नामक फ़ाइल को एक बार सेलेक्ट करके ओपन बटन पर कलिक करें | जब आप ओपन बटन पर कलिक करेंगे तो निम्न से चौहदवीं तस्वीर अनुसार मेसेज दिखाई देगा जहाँ पर लिखा होगा "Paching Done" इस का मतलब कि रेड एस्ट्रो प्रो वर्ज़न 6 आपके कम्पूटर में फुल वर्ज़न के रूप में स्थापित हो गया है | इस सोफ्वेयर को चलाइए व लाल किताब के अनुसार कुंडली बनाइये |


पहिली तस्वीर

दूसरी तस्वीर

तीसरी तस्वीर

चौथी तस्वीर

पांचवी तस्वीर

छटी तस्वीर

सातवीं तस्वीर

आठवीं तस्वीर

नौवीं तस्वीर

दसवीं तस्वीर

ग्यारवीं तस्वीर

बारहवीं तस्वीर

तेहरवीं तस्वीर

चौहदवीं तस्वीर

तस्वीर

Lal Kitab Rashion ke varn

लाल किताब : राशियों के वर्ण

राशियों के वर्ण
राशियों के भी वर्ण होते हैं जैसे :-
वृषभ, वृश्चिक, मीन ----ये तीन राशियाँ ब्राह्मण वर्ग की हैं |
मेष, सिंह, धनु,----ये तीन राशियाँ क्षत्रिय वर्ण की हैं
मिथुन, तुला, कुम्भ----ये तीन राशियाँ वैश्य वर्ण की हैं
कर्क, कन्या, मकर ----ये तीन राशियाँ शूद्र वर्ण की हैं

विभिन्न राशियों में जन्मे जातकों के गुण भी वर्ण विशेष के अनुसार होते हैं |
जैसे ----ब्राह्मण वर्ण में जन्मे जातक सात्विक,
क्षत्रिय व वैश्य वर्ण में जन्मे जातक राजसी
एवं शूद्र वर्ण में जन्मे जातक तामसी होंगे |

यह निर्विर्वाद सत्य है कि जाति या वर्ण हमारे ही बनाए हुए हैं | एक ब्राहमण के घर शूद्र जन्म ले सकता है और एक शूद्र के घर ब्राह्मण जन्म ले सकता है | किसी ब्राह्मण के घर में कर्क, कन्या, मकर राशि या लगन के जन्मे जातक शूद्र जाति के होते हैं | किसी शूद्र के घर में वृषभ,वृश्चक और मीन लगन या राशि में जन्मे जातक ब्राह्मण होते हैं |


Lal Kitab Janam Varsh Kundli Talika : लाल किताब जन्म वर्ष कुंडली तालिका

लाल किताब जन्म वर्ष कुंडली तालिका (ज्ञान चक्र)

पारम्परिक ज्योतिष शाश्त्र में गोचर ग्रहों के आधार पर "वर्ष जन्म कुंडली" बनाने का प्रावधान है | वर्ष जन्मकुंडली बनाते समय जो लग्न तीन दिन होगा उसी को आधार मान कर उसके आधार पर गोचर ग्रहों के शुभ-अशुभ परिणाम देखे जाते हैं | परन्तु लाल किताब की वर्ष कुंडली बनाने की पद्धति भिन्न व आसान है |

लाल किताब के वर्ष जन्मकुंडली बनाने के लिए 120 वर्षों की एक तालिका बनाई गई है | इस तालिका में पहले कालम में ऊपर से नीचे की तरफ आयु के वर्ष लिखे हुए है | दुसरे कालम में बाएं से दायें कालम में घरों की संख्या लिखी हुई है |

इस वर्ष कुंडली ज्ञान चक्र को गूगल बुक्स के इस लिंक पर भी पेज नम्बर 224 पर देखा जा सकता है

आयु    जन्म कुंडली के घर
वर्ष
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12
1 1 9 10 3 5 2 11 7 6 12 4 8
2 4 1 12 9 3 7 5 6 2 8 10 11
3 9 4 1 2 8 3 10 5 7 11 12 6
4 3 8 4 1 10 9 6 11 5 7 2 12
5 11 3 8 4 1 5 9 2 12 6 7 10
6 5 12 3 8 4 11 2 9 1 10 6 7
7 7 6 9 5 12 4 1 10 11 2 8 3
8 2 7 6 12 9 10 3 1 8 5 11 4
9 12 2 7 6 11 1 8 4 10 3 5 9
10 10 11 2 7 6 12 4 8 3 1 9 5
11 8 5 11 10 7 6 12 3 9 4 1 2
12 6 10 5 11 2 8 7 12 4 9 3 1
13 1 5 10 8 11 6 7 2 12 3 9 4
14 4 1 3 2 5 7 8 11 6 12 10 9
15 9 4 1 6 8 5 2 7 11 10 12 3
16 3 9 4 1 12 8 6 5 2 7 11 10
17 11 3 4 9 1 10 5 6 7 8 2 12
18 5 11 6 9 4 1 12 8 10 2 3 7
19 7 10 11 3 9 4 1 12 8 5 6 2
20 2 7 5 12 3 9 10 1 4 6 8 11
21 12 2 8 5 10 3 9 6 1 11 7 6
22 10 12 2 7 6 11 3 9 5 1 4 8
23 8 6 12 10 7 2 11 3 9 4 1 5
24 6 8 7 11 2 12 4 10 3 9 5 1
25 1 6 10 3 2 8 7 4 11 5 12 9
26 4 1 3 8 6 7 2 11 12 9 5 10
27 9 4 1 5 10 11 12 7 6 8 2 3
28 3 9 4 1 11 5 6 8 7 2 10 12
29 11 3 9 4 1 6 8 2 10 12 7 5
30 5 11 8 9 4 1 3 12 2 10 6 7
31 7 5 11 12 9 4 1 10 8 6 3 2
32 2 7 5 11 3 12 10 6 4 1 9 8
33 12 2 6 10 8 3 9 1 5 7 4 11
34 10 12 2 7 5 9 11 3 1 4 8 6
35 8 10 12 6 7 2 4 5 9 3 11 1
36 6 8 7 2 12 10 5 9 3 11 1 4
37 1 3 10 6 9 12 7 5 11 2 4 8
38 4 1 3 8 6 5 2 7 12 10 11 9
39 9 4 1 12 8 2 10 11 6 3 5 7
40 3 9 4 1 11 8 6 12 2 5 7 10
41 11 7 9 4 1 6 8 2 10 12 3 5
42 5 11 8 9 12 1 3 4 7 6 10 2
43 7 5 11 2 3 4 1 10 8 9 12 6
44 2 10 5 3 4 9 12 8 1 7 6 11
45 12 2 6 5 10 7 9 1 3 11 8 4
46 10 12 2 7 5 3 11 6 4 8 9 1
47 8 6 12 10 7 11 4 9 5 1 2 3
48 6 8 7 11 2 10 5 3 9 4 1 12
49 1 7 10 6 12 2 8 4 11 9 3 5
50 4 1 8 3 6 12 5 11 2 7 10 9
51 9 4 1 2 8 3 12 6 7 10 5 11
52 3 9 4 1 11 7 2 12 5 8 6 10
53 11 10 7 4 1 6 3 9 12 5 8 2
54 5 11 3 9 4 1 6 2 10 12 7 8
55 7 5 11 8 3 9 1 10 6 4 2 12
56 2 3 5 11 9 4 10 1 8 6 12 7
57 12 2 6 5 10 8 9 7 4 11 1 3
58 10 12 2 7 5 11 4 8 3 1 9 6
59 8 6 12 10 7 5 11 3 9 2 4 1
60 6 8 9 12 2 10 7 5 1 3 11 4
61 1 11 10 6 12 2 4 7 8 9 5 3
62 4 1 6 8 3 12 2 10 9 5 7 11
63 9 4 1 2 8 6 12 11 7 3 10 5
64 3 9 4 1 6 8 7 12 5 2 11 10
65 11 2 9 4 1 5 8 3 10 12 6 7
66 5 10 3 9 2 1 6 8 11 7 12 4
67 7 11 5 3 10 4 1 9 12 6 8 2
68 2 3 5 11 9 7 10 1 6 8 4 12
69 12 8 7 5 11 3 9 4 1 10 2 6
70 10 12 2 7 5 11 3 6 4 1 9 8
71 8 6 12 10 7 9 11 5 2 4 3 1
72 6 7 8 12 4 10 5 2 3 11 1 9
73 1 4 10 6 12 11 7 8 2 5 9 3
74 4 2 3 8 6 12 1 11 7 10 5 9
75 9 10 1 3 8 6 2 7 5 4 12 11
76 3 9 6 1 2 8 5 12 11 7 10 4
77 11 3 9 4 1 2 8 10 12 6 7 5
78 5 11 4 4 7 1 6 2 10 12 3 8
79 7 5 11 2 9 4 12 6 3 1 8 10
80 2 8 5 11 4 7 10 3 1 9 6 12
81 12 1 7 5 11 10 9 4 8 3 2 6
82 10 12 2 7 5 3 4 9 6 8 11 1
83 8 6 12 10 3 5 11 1 9 2 4 7
84 6 7 8 12 10 9 3 5 4 11 1 2
85 1 3 10 6 12 2 8 11 5 4 9 7
86 4 1 8 3 6 12 11 2 7 9 10 5
87 9 4 1 7 3 8 12 5 2 6 11 10
88 3 9 4 1 8 10 2 7 12 5 6 11
89 11 10 9 4 1 6 7 12 3 8 5 2
90 5 11 6 9 4 1 3 8 10 2 7 12
91 7 5 11 2 10 4 6 9 8 3 12 1
92 2 7 5 11 9 3 10 4 1 12 8 6
93 12 8 7 5 2 11 9 1 6 10 3 4
94 10 12 2 8 11 5 4 6 9 7 1 3
95 8 6 12 10 5 7 1 3 4 11 2 9
96 6 2 3 12 7 9 5 10 11 1 4 8
97 1 9 10 6 12 2 7 5 3 4 8 11
98 4 1 6 8 10 12 11 2 9 7 3 5
99 9 4 1 2 6 8 11 12 5 3 10 7
100 3 10 8 1 5 7 6 12 2 9 11 4
101 11 3 9 4 1 6 8 10 7 5 12 2
102 5 11 3 9 4 1 2 6 8 12 7 10
103 7 5 11 3 9 4 1 8 12 10 2 6
104 2 7 5 11 3 9 10 1 6 8 4 10
105 12 2 4 5 11 3 9 7 10 6 1 8
106 10 12 2 7 8 5 3 9 4 11 6 1
107 8 6 12 10 7 11 4 3 1 2 5 9
108 6 8 7 2 10 5 4 11 1 9 3
109 1 9 10 6 12 2 7 11 5 3 4 8
110 4 1 6 8 10 12 3 5 7 2 11 9
111 9 4 1 2 5 8 12 10 6 7 3 11
112 3 10 8 9 11 7 4 1 2 12 6 5
113 11 3 9 4 1 6 2 7 10 5 8 12
114 5 11 3 1 4 10 6 8 12 9 7 2
115 7 5 11 3 9 4 1 12 8 10 2 6
116 2 7 5 11 3 9 10 6 4 8 12 1
117 12 2 4 5 6 1 8 9 3 11 10 7
118 10 12 2 7 8 11 9 3 1 6 5 4
119 8 6 12 10 7 5 11 2 9 4 1 3
120 6 8 7 12 2 3 5 4 11 1 9 10

आप निम्न तस्वीर पर भी कलिक करके उपरोक्त टेबल को देख सकते हैं

 

Trending Topik

label

Blog Tricks
Support : Tips Hindi Mein | Vaneet Nagpal
Copyright © 2011. Hindi Tips - All Rights Reserved
Template Created by Vaneet Nagpal Published by Tips Hindi Mein
Proudly powered by Blogger